Home > Letters from our Fellows > Neetu | Jaipur

प्रत्ति वर्कशॉप अनुभव – नीतू तिवारी

प्रतीति वर्कशॉप अनुभव :- कुछ नया सीखने को मिला। अलग-अलग अनुभव प्राप्त हुआ, काफी अलग-अलग संस्थाओं का पता चला, इसके अलावा प्रतीति वर्कशॉप के दौरान हमें जेंडर, मर्दानगी, लिंग आधारित हिंसा, लिंग-भेद भाव. धारणाओं, मानव अधिकारों की जानकारी मिली, कुछ नया सीखने को मिला तथा नए विचारों की उत्पत्ति हुई। तथा कुछ नया करने की प्रेरणा मिली।

साथ ही, आरुषि मैडम, आदित्य सर, शोमेश सर, कुछ सीखने का मौका मिला, साथ ही व्यक्तिगत जानकारी मिली। तीनों मेंटर को समझने का मौका मिला। उनके जीवन से जुडी जानकारी, प्रतीति के लिए कार्य उसे के कारण जान्ने का मौका मिला

संस्था सहयोगी अनुभव :- हमारे साथ अन्य संता के सदस्य भी इस प्रतीति वर्कशॉप शामिल हुए। उनमें से आज़ाद फाउंडेशन, मैजिक बस, स्माइल फाउंडेशन, प्रवाह, इन संस्थाओं से भी हमें बहुत कुछ सीखना का मौका मिला, हर किसी संस्था कार्य की जानकारी मिली, उन्होंने अपने कार्य के बारे बताया, उनके साथ कार्य करने मज़ा आया।

विशाखा समुदाय में प्रतीति (जेंडर) का अनुभव :- हम तीन दिन वर्कशॉप के बाद अपने विशाखा में अपने साथियों को (जेंडर) के बारे में जानकारी दी तथा उनके साथ प्रतीति वर्कशॉप हुए कार्य की जानकारी प्रदान की उसके बाद विशाखा के सदस्यों के साथ मिलकर जेंडर पर कार्य करने की प्लानिंग की तथा हमने सब मिलकर गावों मं मीटिंग की तथा जेंडर के बारे बताया, साथ ही अपनी संस्था आने वाले युवाओं को उनकी जानकारी प्रदान की। जब इस कार्य करने कठिनाइयों सामना करना पड़ा तथा लोगों के बीच अपनी बात रखने में परेशानियों सामना किया। लेकिन फिर भी हमने हार नहीं मानी तथा इस कार्य करते रहे। युवाओं को जेंडर की जानकारी देते रहे।

सीख / समझ :- इस कार्य को करने हेतुँ हमें पहले योजना बनायीं जिसमें हमें इस कार्य करने में आसानी होने लगी तथा हमें अपने कार्य में सफल हुए यह सीख हमें आगे तक प्रेरणा प्रदान करेगी।