Home > Letters from our Fellows > Nazmeen | Delhi

प्रिये प्रतीति साध्यस्य ,

फिहलाल मुझे बहुत एच लग रहा है प्रतीति से जुड़ कर | जब मैंने पहले बार प्रतीति का सफर शुरू किया था तब मैं बहुत घबरा रही थी की जेंडर पैर हम कैसे बात करेगे लेकिन धीरे-धीरे यह घबराहट दूर हुई मेरी | अब मैं सब लोगो से बात कर पति हूँ किसी भी टॉपिक पर | यहां आकर न केवल मेको अचे टीचर मिले बल्कि अच्छे दोस्त मिले, जिनसे सीखने को बहुत कुछ मिला मेरेको | मेरेको इससे जुड़कर बहुत एच लगा और आगे भी इस पैर काम करना चाहूंगी | मैं कबि सोचती हूँ की मैं कितनी लकी हूँ जो मेरेको जेंडर के बारे में पता चला और इस पैर काम करने को मिला, मेरा यह अनुभव बहुत अच्छा लगा

थैंक यू आल ऑफ़ यू !!

नाजमीन